श्रावणी मेला

श्रावण के महीने के दौरान बाबाधाम का महत्व बढ़ता है इस अवधि के दौरान लाखों श्रद्धालु बाबा बैद्यनाथ मंदिर में इकट्ठा होते है। उनमें से ज्यादातर लोग सबसे पहले सुल्तानगंज जाते हैं, जो बाबाधाम से 105 किमी दूर है। सुल्तानगंज में, गंगा उत्तर में बहती है यह इस जगह से है कि भक्तों गंगा जल ले कर बाबा धाम की और पैदल आते है। वे बाबा बैधनाथ मंदिर तक 109 किलोमीटर की दूरी पर चलते हैं,लोग बोल बम बोलते हुए यहाँ तक बहुत ही श्रद्धा के साथ पहुचते है। बाबाधाम तक पहुंचने पर, कावरिया पहले शिवगंगा में खुद को शुद्ध करने के लिए एक डुबकी लेते हैं, और फिर बाबा बैद्यनाथ मंदिर में प्रवेश करते हैं, जहां ज्योतिर्लिंगम पर गंगा जल अर्पित करते है। जुलाई-अगस्त के दौरान यह तीर्थ यात्रा पूरे 30 दिनों के लिए श्रावण के दौरान जारी रहता है। यह दुनिया का सबसे लंबा धार्मिक मेला है विदेशी भूमि के लोग न केवल श्रावण महीने में बल्कि शेष वर्ष के दौरान भी बाबाधाम जाते हैं। सुल्तानगंज से बाबाधाम की राह पर नजर रखने वाले लोगों का एक 109 कि.मी. लंबी मानव श्रृंखला वाली भगवा पहने तीर्थयात्रियों का है। यह अनुमान लगाया जाता है कि एक महीने की इस अवधि में 50 से 55 लाख तीर्थयात्री बाबादम जाते हैं। श्रवण की महान तीर्थ के अलावा, लगभग पूरे वर्ष मार्च में शिवरात्रि के साथ मेला, जनवरी में बसंत पंचमी, सितंबर में भद्रा पूर्णिमा लोगो का आना जाना लगा रहता है।